Home Unknown Facts जॉर्ज फ़र्नान्डिस जी से जुडी 5 बड़ी बाते जो आपको जानना...

जॉर्ज फ़र्नान्डिस जी से जुडी 5 बड़ी बाते जो आपको जानना चाहिए !

38
0
former defence minister George Fernandes Pasess away at 88

जॉर्ज फ़र्नान्डिस एक ऐसा बागी नेता जिसकी मुरीद लेफ्ट और राईट दोनों विचारधारा के लोग थे , आज 88 साल की उम्र में कद्दावर नेता जॉर्ज फ़र्नान्डिस जी का निधन हो गया, हम उनको याद करते हुए , उनसे जुडी हुई आपको 5 बाते बताना चाहते है जो आपको जानना चाहिए .

चले थे पादरी बनने ट्रेड यूनियन लीडर बन गए :

जॉर्ज फ़र्नान्डिस जी का जन्म ३ जून १९३० को मंगलुरु में हुआ था , वो घर से तो चले थे पादरी की ट्रेनिंग लेने लेकिन ट्रेड यूनियन लीडर बन गए . १९४९ में वो मुंबई शिफ्ट हो गए और सोसिलिस्ट ट्रेड यूनियन मूवमेंट के साथ जुड़ गए . इंडियन रेलवे के साथ काम करते हुए , उन्होनो के काफी स्ट्राइक एवेम धरना किये जिनसे उनका कद ट्रेड यूनियन में काफी बढ़ गया , १९७४ में इन्होने भारत का सबसे बड़ा एवेम सफलतम रेल बंद आन्दोलन किया जिसने इनका कद भारत के प्रमुख नेताओ के समुख कर दिया .

किलर  जॉर्ज फ़र्नान्डिस

जॉर्ज फ़र्नान्डिस १९६७ में चुनावी रातनीति में कदम रखा और अपने पहले ही चुनाव में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के टिकट से , कांग्रेस के कद्दावर नेता s.k.पाटिल से भीड़ गए , मुंबई का न होते हुए भी पहली ही बार में साउथ मुंबई की सीट को s.k.पाटिल के मुह से छीन लिया जिस वजह से इनका नाम “किलर जॉर्ज फ़र्नान्डिस ” पड़ गया .

इमरजेंसी में सिख बनके गीता पड़ा

इमरजेंसी के दौरान जहा सभी बड़े नेता गिरिफ्तार कर लिए गए थे , जॉर्ज फ़र्नान्डिस गिरिफ्तारी से बचकर मुहीम जारी रखने के लिए पगड़ी और दाड़ी बड़ा कर पंजाबी का वेश धारण कर लिया और अपना नाम कुशवंत सिंह बताते थे, हलाकि वो तिहार में बंद कर लिए गए , वहा भी वो गीता के उपदेश पढ़ कर अपने साथी कैदी का हौसला आफजाई करते थे .

समता पार्टी का गठन

जॉर्ज फ़र्नान्डिस के नेतृत्वा में ही समता पार्टी का गठन किया गया , जिसमे साड़ी पार्टी के लोग शामिल हुए , जॉर्ज फ़र्नान्डिस ही इमरजेंसी के पोस्टर बॉय बन कर निकले.

कोका कोला को देश से निकला

जॉर्ज फ़र्नान्डिस जब जनता पार्टी की सरकार में इंडस्ट्री मिनिस्टर थे , वो बिल ले कर आये थे , जिसमे वेदेशी कंपनी को भारत में व्यापार करने के लिए भारतीय कंपनी से साझेदारी करना अनिवार्य था, बहुत से कंपनी ने ये माना पर कोको कोला नहीं माना तो जॉर्ज फ़र्नान्डिस जी उसे देश से निकल जाने को कहा .

जॉर्ज फ़र्नान्डिस भारत का एक एसा संघर्ष शील नेता रहा जिनके पास भारत की मूलभूत समस्यायों को मिठाने का ज्ञान था और वो इसके लिए जीवन पर्यंत प्रत्नाशील रहे .